अमिताभ बच्चन को आज भी हरिवंश राय बच्चन की कमी खलती है, पिता के निधन से टूट गए थे बिग बी!


अमिताभ बच्चन (Amitabh bachchan) एक के बाद फिल्मों में नजर आने वाले हैं. इस कड़ी में अयान मुखर्जी की फिल्म ‘ब्रह्मास्त्र’ (Brahmastra) 9 सितंबर को रिलीज हो रही है. इसके अलावा सूरज बड़जात्या की ‘ऊंचाई’ और विकास बहल की ‘गुडबाय’ (Goodbye) भी कतार में है. ‘गुडबाय’ के ट्रेलर लॉन्च के मौके पर अमिताभ ने अपने पिता हरिवंश राय बच्चन को याद किया और बताया कि पिता के निधन ने उन्हें बहुत प्रभावित किया और उससे बाहर निकल पाना उनके लिए आसान नहीं था.

सदी के महानायक अमिताभ बच्चन भले ही उम्र के इस पड़ाव पर आ गए हैं लेकिन आज भी पिता हरिवंश राय बच्चन की कमी अखरती है. अक्सर उन्हें याद करते रहते हैं, बिग अपने पिता को आदर्श मानते हैं.   ‘गुडबाय’  ट्रेलर लॉन्च के मौके पर अमिताभ ने कहा ‘मैं अपने पिता के अंतिम संस्कार के बाद जब लौटा तो एक कमरे में बैठ गया था. मैं बहुत उदास था, तभी मेरे एक दोस्त ने मुझसे कहा कि उन्हें खुश होना चाहिए कि अपने पिता के साथ 60 साल बिता लिए, वह सिर्फ 25 साल ही बिता पाया. उसकी इस बात से मुझे बड़ों के महत्व का एहसास हुआ’.

‘गुडबाय’ फैमिली ड्रामा फिल्म है
बता दें कि अमिताभ बच्चन के पिता हरिवंश राय बच्चन हिंदी के प्रसिद्ध कवि और लेखक थे. उनकी लिखी ‘मधुशाला’ कविता आज भी लोग पसंद करते हैं. साल 2003 में उनका निधन हो गया था. अमिताभ के जीवन पर अपने पिता के आदर्शों का काफी असर है. फिल्मी दुनिया में एक लंबा समय बिता चुके अमिताभ अभी भी पूरे दमखम के साथ स्क्रीन पर नजर आते हैं. फैमिली ड्रामा फिल्म ‘गुडबाय’ 7 अक्टूबर 2022 में रिलीज होने वाली है.


ये भी पढ़िए-KBC 14: आसान नहीं है अमिताभ बच्चन की जिंदगी, 79 साल के एक्टर सुबह 6 से रात 8 बजे तक करते हैं शूटिंग

अमिताभ बच्चन खुद को कठपुतली बताते हैं
अमिताभ ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान अपनी सफल फिल्म ‘शोले’ की सफलता का क्रेडिट राइटर, प्रोड्यूसर और डायरेक्टर को देते हुए कहा कि ‘इसका क्रेडिट उन्हें दिया जाना चाहिए कि उन्होंने मेरे पर भरोसा जताया . वे लिखते हैं, फैसला लेते हैं हम तो सिर्फ कठपुतली हैं. जो लेखक लिखता है हम वही करते हैं और जो डायरेक्टर कहते हैं वह कर देते हैं.’

Tags: Amitabh bachchan, Bramhastra, Harivansh rai bachchan





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.