21 Years of Lajja: अखबार पढ़ राजकुमार संतोषी को आया था ‘लज्जा’ बनाने का ख्याल, पुरस्कार मिला लेकिन दर्शक नहीं!


21 Years of Lajja: जब आंसू थमते हैं तो क्रांति शुरू होती है…21 साल पहले इस टैग लाइन से ‘लज्जा’ (Lajja) फिल्म के पोस्टर में माधुरी दीक्षित (Madhuri Dixit), मनीषा कोइराला (Manisha Kouirala), महिमा चौधरी की दमदार तस्वीर इस फिल्म की कहानी बयां करती नजर आई थी. राजकुमार संतोषी (Rajkumar Santoshi) के निर्देशन में बनी फिल्म ‘लज्जा’ (Lajja) 31 अगस्त 2001 में आई एक ऐसी फिल्म थी जिसमें भारतीय समाज में औरतों की दुर्दशा सिल्वर स्क्रीन पर दिखाई गई थी. इन दिनों बॉलीवुड की फिल्में फ्लॉप हो रही हैं तो कई बार ये भी कहा जा रहा है कि फिल्म की स्टोरी दमदार नहीं है, ऑरिजिनल कॉन्टेंट नहीं है, इस वजह से फिल्में नहीं चल पा रही हैं. लेकिन कई बार ऐसा भी होता है कि फिल्म की कहानी भी दमदार होती है, कलाकार भी अच्छे होते हैं, फिर भी फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास करिश्मा नहीं कर पाती है. 21 साल पहले ‘लज्जा’ के साथ भी ऐसा ही हुआ था.

राजकुमार संतोषी एक ऐसे फिल्म डायरेक्टर हैं जो सामाजिक संदेश के साथ मनोरंजन दिखाने में विश्वास रखते हैं. ‘लज्जा’ में उन्होंने रेखा, मनीषा कोइराला, माधुरी दीक्षित, महिमा चौधरी के साथ-साथ अनिल कपूर, अजय देवगन और जैकी श्रॉफ को कास्ट किया था. सिर्फ ये ही नहीं बल्कि विलेन और कैरेक्टर आर्टिस्ट मिला ले तो करीब 30 एक्टर्स इस फिल्म में हैं. एक से बढ़कर एक कलाकारों की फौज वाली इस फिल्म की कहानी में पुरुषों के वर्चस्व वाले समाज के अंदर फैली काली-स्याह तस्वीरों को पर्दे पर पेश किया गया था. महिला प्रधान यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सफल नहीं रही थी, क्योंकि फिल्म की कहानी को आम दर्शक के लिए पचा पाना आसान नहीं था. हालांकि फिल्म और कलाकारों को कई पुरस्कार मिले थे.
अखबार की खबर ने झिंझोड़ कर रख दिया था
राजकुमार संतोषी की नजर एक दिन न्यूजपेपर में छपी एक खबर पर गई, जिसमें उत्तर प्रदेश के कानपुर के पास एक गांव की 42 साल की महिला के बारे में था. खबर के मुताबिक उस महिला को 9 दिन बंदी बनाकर रखा गया था और उसके साथ लगातार रेप करने के बाद जिंदा जला दिया गया था. ये खबर पढ़ते ही संतोषी का दिमाग हिल गया और उन्होनें इसी पर फिल्म बनाने का विचार बना लिया.  संतोषी ने रंजीत कपूर और अशोक रावत के साथ फिल्म की कहानी, स्क्रिप्ट सब फाइनल कर लिया. फिल्म के किरदार भी फाइनल कर लिए. चूंकि फिल्म सच्ची घटना पर आधारित थी तो उस गांव में जाने का फैसला भी कर लिया.

राजकुमार संतोषी से गांव में बात करने को कोई तैयार नहीं था
मीडिया को दिए एक इंटरव्यू में राजकुमार संतोषी ने बताया था कि ‘मैं अपने कैमरा पर्सन और आर्ट डायरेक्टर के साथ कानपुर के उस गांव में भी गया,लेकिन हैरानी की बात ये थी कि कोई इस मुद्दे पर बात नहीं करना चाहता था सभी चुप्पी साधे हुए थे. दबंगों का खौफ इतना कि कोई हमसे कुछ भी बताने को तैयार ही नहीं था. मृतका के परिजनों ने हमें पूरी घटना की जानकारी दी, जिसकी वजह से फिल्म की स्क्रिप्ट फाइनल हो पाई.

4 महिलाओं के दर्द की साझा कहानी ‘लज्जा’
‘लज्जा’ में चार शॉर्ट स्टोरीज हैं. हर कहानी एक अलग जगह की है. कहानी कहीं की भी हो कमोबेश महिलाओं का दर्द एक जैसा ही है. ‘लज्जा’  में चार महिलाओं वैदेही, मैथिली, जानकी और रामदुलारी की कहानी है. इस फिल्म में वैदेही की भूमिका मनीषा कोइराला ने और मैथिली महिमा चौधरी, जानकी माधुरी दीक्षित तो रामदुलारी की भूमिका रेखा ने निभाई थी. लीड रोल में मनीषा कोइराला हैं, जो पूरी कहानी को नैरेट करती हैं. वह सभी महिला पात्रों से मिलती हैं और उनके दर्द और पीड़ा के बारे में बताती हैं.

ये भी पढ़िए-Throwback: अमिताभ बच्चन के साथ ‘याराना’ में नीतू सिंह ही नहीं रेखा भी थीं मौजूद, सुनकर चौंक गए ना आप!

आसान नहीं था फिल्म बनाना
कहते हैं कि जब फिल्म बनी तो खूब कंट्रोवर्सी भी हुई. राजकुमार संतोषी, मनीषा कोइराला, माधुरी दीक्षित समेत सभी कलाकारों की गिरफ्तारी की नौबत आ गई थी. फिल्म में शानदार अदाकारी के लिए माधुरी दीक्षित और रेखा को फिल्मफेयर अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था.

Tags: Ajay Devgn, Anil kapoor, Entertainment Special, Jackie Shroff, Madhuri dixit, Mahima Chaudhary, Manisha Koirala, Rekha



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.